अस्वीकरण

संबंधित सरकारी विभाग/संस्थान ही इस पोर्टल/वेबसाईट के स्वामी है। एनआईसी ने मात्र अपने संसाधनों पर इसे होस्ट किया है। अतः इस पर उपलब्ध विषय वस्तु की यथार्थता/पूर्णता के संबंध में टी.सी.एस. उत्तरदायी नहीं है।


यद्यपि इस पोर्टल/वेबसाईट की विषयवस्तु की यथार्थता और प्रचलन सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रयास किए गए हैं, इसका मतलब कानूनी ब्यान न समझा जाए या इसका उपयोग किसी कानूनी प्रयोजन के लिए न किया जाए। टी.सी.एस. विषय वस्तु की यथार्थता, पूर्णता उपयोगिता के संबंध में अन्यथा उत्तरदायी नहीं है। प्रयोक्ताओं को किसी भी सूचना के सत्यापन की जांच संबंधित सरकारी विभाग/संस्थान और/या अन्य स्रोतों से करने, और पोर्टल/वेबसाईट में दी गई सूचना पर कार्य करने के पहले कोई उपयुक्त व्यावसायिक परामर्श लेने का सुझाव दिया जाता है।


किसी भी हाल में सरकार या टी.सी.एस. इस पोर्टल/वेबसाईट के उपयोग के सम्बन्ध में होने वाले खर्च, हानि या क्षति सहित, असीमित रूप में, अप्रत्यक्ष या परिणामी हानि या क्षति या कोई खर्च, हानि या क्षति जो भी उपयोग के कारण होता है, के लिए उत्तरदायी नहीं होगी। अन्य वेबसाइटों के साथ संबंध, जिन्हें इस पोर्टल/वेबसाईट में शामिल किया गया है, उन्हें केवल जनता की सुविधा के लिए दिया जाता है।


टी.सी.एस. विषय वस्तुओं या सहनबद्ध वेबसाइटों की विश्वसनीयता के लिए उत्तरदायी नहीं है और उनके अंतर्गत प्रकट दृष्टिकोण से अनिवार्य रूप से समर्थन नहीं करता है। हम सब समय ऐसे सम्बद्ध पृष्ठों की उपलब्धता की गारंटी नहीं दे सकते है।


इस पोर्टल पर प्रदर्शित सामग्री का हमारे पास मेल भेजकर उचित अनुमति प्राप्त करने के पश्चात नि:शुल्क पुनरूत्पादन किया जा सकता है। तथापि, सामग्री का पुनरूत्पादन यथार्थ रूप में किया जाना है और उनका उपयोग अपमान जनक या गुमराह करने के संदर्भ में न किया जाए। जहां कहीं भी सामग्री का प्रकाशन किया जाता या दूसरों को जारी किया जाता है तो स्रोत की अभिस्वीकृति दी जाए। तथापि, इस सामग्री को दोबारा उत्पादित करने की अनुमति तृतीय पक्ष की कॉपी राइट होने के रूप में जाना जाता है, के लिए नहीं दी जाती है। ऐसी सामग्री का पुनरूत्पादन करने का अधिकार विभागों। सम्बन्धित कॉपीराइट धारकों से प्राप्त किया जाए।


ये निबंधनें और शर्तें भारतीय कानूनों के अनुसार शासित और आशयित होंगे। इन निबन्धनों और शर्तों के अधीन उठने वाला कोई भी विवाद भारत की अदालत के विशिष्ट क्षेत्राधिकार में होगा।