विभागीय जानकारी

इस विभाग के अंतर्गत संस्थान और संगठन
विभाग का उद्देश्य

सूचना प्रौद्योगिकी के मुख्य उद्देश्य निम्नानुसार है:-

 

  • सूचना प्रौद्योगिकी, जिसमें सूचना प्रौद्योगिकी उद्योग को प्रोत्साहित करने के लिए योजनाएँ सम्मिलित हैं।
  • समस्त स्तरों पर नागरिक सेवाओं के सुधार के लिए ई-गव्हर्नेंस का संवर्धन।
  • राज्य सरकार के समस्त विभागों, नगरीय तथा ग्रामीण स्थानीय निकायों में सूचना प्रौद्योगिकी, जिसमें कम्प्यूटरीकरण सम्मिलित है, के उपयोग का संवर्धन।
  • राज्य सरकार के विभिन्न विभागों, नगरीय तथा ग्रामीण स्थानीय निकायों द्वारा नागरिक सेवाओं में सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग की परियोजनाओं के संबंध में सहायता तथा समन्वय।
  • आम नागरिकों की बीच सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग को लोकप्रिय तथा बोधगम्य बनाना|
  • राज्य सूचना प्रौद्योगिकी नीति तथा कार्य योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए समन्वय।
  • सूचना प्रौद्योगिकी से संबंधित सेमिनार, कार्यशाला, सम्मेलनों का आयोजन।
  • कम्प्यूटरों के लिए सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी पार्क तथा हार्डवयर पार्क से संबंधित औद्योगिक केन्द्रों, सूचना प्रौद्योगिकी, मनोरंजन और इलैक्ट्रॉनिक्स से संबंधित संचार उपकरणों की स्थापना में अभिवृद्धि तथा सहायता और ऐसे प्रयासों में निजी भागीदारी को प्रोत्साहन।
  • ग्रामीण इंटरनेट तथा अन्य इंटरनेट आधारित सूचना प्रणाली, जिसमें विभिन्न सेवाओं के लिए सूचना बूथों (कियोस्क) तथा आभासी कार्यालयों की स्थापना सम्मिलित का प्रोन्नयन।
  • विभिन्न विभागों के सूचना प्रौद्योगिकी कार्यक्रमों तथा उपयोजनाओं के संबंध में परामर्श।
  • प्रदेश के युवा वर्ग हेतु प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रोज़गार के अधिकतम अवसर उत्पन्न करना।
  • छोटे शहरों (कस्बों) में आधारभूत संरचना एवं विकास के अवसर उपलब्ध कराना।विभिन्न विभागों, निगमों, कंपनियों, सोसायटी, कंसल्टेंसी, सॉफ्टवेयर विकास, नेटवर्किंग, हार्डवेयर / सॉफ्टवेयर खरीद, परीक्षण, प्रशिक्षण और सिस्टम इंटीग्रेशन सेवाएँ उपलब्ध कराने के द्वारा मध्य प्रदेश के सरकार के बोर्डों आदि में आईटी / आईटीईएस के उपयोग को बढ़ावा देने के लिएl
  • आईटी हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर प्रौद्योगिकी पार्क की स्थापना, विशेष आर्थिक जोन, और संबंधित बुनियादी ढांचे के विकास से राज्य में निवेश को आकर्षित करने के लिए हैl
  • ई - शासन के लिए स्टेट वाइड एरिया नेटवर्क (स्वान), सामान्य सेवा केंद्र (सीएससी) की तरह राज्य में आम बुनियादी सुविधाओं को लागू करने के लिए, राज्य पोर्टल आदि ई - गवर्नेंस परियोजनाओं के कार्यान्वयन में अन्य सरकारी विभागों की मदद करने के लिएl
  • इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी (सूचना प्रौद्योगिकी सक्षम सेवाओं सहित) मध्य प्रदेश के राज्य में उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए और विकसित करनाl
  • कंपनियों को शुरू करने और अधिक लेने या का आयोजन इलेक्ट्रॉनिक्स / आईटी कोई विवरण के औद्योगिक उद्यमों, इलेक्ट्रॉनिक औद्योगिक इकाइयों के प्रबंधन पर अपने काम में सुधार लाने के लिए एक दृश्य के साथ लेने के लिए, विकास के लिए बनाया गया योजनाओं में राज्य सरकार की एजेंसी के रूप में काम करने के लिए, संघों की स्थापना / इलेक्ट्रॉनिक्स मध्य प्रदेश में या कहीं और आईटी उद्योगl
  • आम तौर पर एक औद्योगिक, प्रबंधन, वित्तीय और तकनीकी सलाहकार के रूप में और इलेक्ट्रॉनिक्स / आईटी उद्योगों के विकास के लिए उन्हें भावी उद्यमियों, चिंताओं और कॉर्पोरेट निकायों सहायता और सेवा सलाह के लिए विशेष रूप से कार्य करने के लिएl
  • यह जानकारी प्रदान करने के लिए सरकारी विभागों / एजेंसियों के लिए और उन्हें कंप्यूटरीकरण और नेटवर्किंग में सहायताl
  • सरकार में आईटी के क्षेत्र में मानव संसाधन विकास की सुविधा के लिएl
  • किसी भी अन्य समारोह के रूप में राज्य सरकार द्वारा सौंपा जा सकता है शुरू करने के लिएl
विभाग के विजन

सूचना प्रौद्योगिकी एवं ई-गव्हर्नेन्स प्रत्येक क्षेत्र की आवश्यकता बनती जा रही है। शासन के विभिन्न अंगों में सूचना प्रौद्योगिकी की उपयोग बढ़ाने हेतु विभाग उत्प्रेरक का कार्य कर रहा है। विभाग का प्रयास रहा है कि राज्य शासन के विभिन्न अंगों को आधारभूत अधोसंरचना उपलब्ध करायी जाए। सूचना प्रौद्योगिकी विभाग द्वारा इस दिशा में ठोस प्रयास किये जा रहे है :-

 

  • सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में निवेश को आकर्षित करना।
  • राज्य में सूचना प्रौद्योगिकी अधोसंरचना का विकास करना।
  • प्रदेश में सुशासन की प्रभावी पहल के रूप में ई-गव्हर्नेंस एवं एम-गव्हर्नेंस को सभी विभागों एवं कार्यालयों में लागू करना।
  • शिक्षा के क्षेत्र में सूचना प्रौद्योगिकी का प्रभावी उपयोग सुनिश्चित करना।
  • विभिन्न विभागों की सूचना प्रौद्योगिकी आधारित परियोजनाओं के क्रियान्वयन को सफल करने में सहयोग प्रदान करना।
विभाग के मिशन
विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग  मध्य प्रदेश मे सूचना प्रौद्योगिकी तथा ई - गवर्नेंस को बढ़ावा देने के उद्द्येश्य से विभिन्न परियोजनाओं को क्रियान्वित करने के लिये ‘ सूचना प्रौद्योगिकी के इंजन' के रूप में कार्यरत है । साथ ही साथ विभाग सूचना प्रौद्योगिकी संबंधी सेवाएं प्रदान करने तथा फेसिलेटर के रूप में कार्य कर रहा है।
विभाग की प्रमुख नितियो मे से एक , ई - गवर्नेंस, सूचना प्रौद्योगिकी, सूचना प्रौद्योगिकी सक्षम सेवा सम्बन्धी उद्योगो के संवर्धन को बढ़ावा देने के लिए बहु आयामी रणनीति के माध्यम से ई - इन्फ्रास्ट्रक्चर के निर्माण के लिए आवश्यक सहयोग प्रदान करना गहै । साथ ही राज्य में आई टी क्षेत्र मे क्षमता सम्वर्धन तथा अनुसंधान एवं विकास (आर एंड डी), को बढावा देना है ।